जनिये नागमणि का अद्भुत रहस्य और यह कैसे बनता है...?


    नमस्कार दोस्तो, दोस्तो आपने नागमणि के बारे मे तो सुना ही होगा। नागमणि एक अनसुलझा हुआ रहस्य है। कई लोगो का मानना है कि नागमणि इस दुनिया में मौजूद है परन्तु बहुत लोग मानते है कि नागमणि जैसी को चीज नहीं होती। वाकई में दोस्तो नागमणि का होना या ना होना एक रहस्य बन गया है परन्तु दोस्तो आज हम इस रहस्य से पर्दा उठाने वाले है। दोस्तो आज हम नागमणि के बारे में हर एक रहस्य बतायेंगे। और यह भी बतायेंगे कि नागमणि की उत्पत्ति कहाॅ से हुई और नागमणि कैसे बनता है। इन सब बातो को जानने के लिए यह आर्टिकल पूरा जरूर पढे। आशा है यह आर्टिकल आपको पसंद आये।

       नागमणि के बारे में तो आपने फिल्मों में देखा ही होगा या सुना होगा। कहानी तथा लोककथाओं में भी नागमणि प्रचलित है। कुछ लोगो का मत है कि नागमणि कहानी मात्र ही है हकीकत में ऐसा कुछ नहीं होता। परन्तु वृहत्ससंहिता नामक एक ज्योतिषशास्त्र ग्रंथ में साफ लिखा है कि इस दुनिया में मणिधारी नाग मौजूद है। यह नाग दुर्लभ हो चुकें है इस कारण बहुत सारे लोग नागमणि को असत्य मानते है। दोस्तो पौराणिक कथाओं में भी नागमणि के बारे में जिक्र है। पौराणिक कथाओ के अनुसार भगवान श्रीकृष्णका भी एक बार मणिधारी नाग से सामना हो चुका है। आइये जानते है नागमणि के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें।

       नागमणि अन्य सभी मणियो से सबसे उत्तम और अद्वितीय होता है। यह अत्यंत चमकीला होता है। नागमणि जिस किसी के पास भी होता है उस पर किसी भी प्रकार के विश का कोई प्रभाव नहीं पडता है। नागमणि इतनी अलौकिक होती है कि जिसके पास भी नागमणि होती है वह हर एक रोग से मुक्त रहता है। दोस्तो यहाॅ पर सवाल यह बनता है कि आखिर नागमणि की उत्पत्ति कहाॅ से हुई, यह नागमणि बनती कैसे है...?

       नागमणि स्वाति नक्षत्र में होने वाली बारिश के कारण बनती है। ऐसा माना जाता है कि स्वाति नक्षत्र में होने वाली बारिश की बूंद जब नाग के मॅह में जाती है तब नागमणि बनती है। परन्तु नागमणि का इस प्रकार से बनना भी एक कल्पना मात्र या तार्किक हो सकता है। इसका कोई भी ठोस प्रमाण आज तक नहीं मिला है। परन्तु यह सत्य है कि ज्योतिषशास्त्र ग्रंथ वृहत्ससंहिता में नागमणि के बारे में बताया गया है।

       दोस्तो अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो कृपया अपने दोस्तो के साथ भी शेयर करिये और हमारे फेसबूक पेज को लाइक करिये ऐसी ही चटपटी आर्टिकल्स के लिए....
Share:

No comments:

Post a Comment

Like Us on Facebook

Followers

Follow by Email

Blog Archive

Recent Posts