क्यों चंदन के पेड़ पर रहते हे जहरीले साप...?


          नमस्कार दोस्तो एक बार फिर से स्वागत है आप सभी का दोस्तो आज हम बात करेंगे चंदन के वृक्ष और सर्प के बीच के संबंध के बारे में। इसके अलावा आज हम आपको बतायेंगे सर्प अपनी जीभ बार बार बाहर क्यों निकालता है। दोस्तो अक्सर  आपने देखा होगा या सुना होगा कि चंदन के वृक्ष पर सर्प लिपटे रहते है लेकिन यहाॅ पर सवाल यह बनता है कि सर्प अधिकतर चंदन के वृक्ष पर ही क्यों लिपटे रहते है। आइये जानते है इसके पीछे का मुख्य कारण।

       दोस्तो इस संबंध में बहुत सारे दोहे भी प्रचलित है उदाहरणतया रहीम जी का एक दोहा प्रस्तुत है - 
   जो रहीम उत्तम प्रकृति, का करि सकत कुसंग।
   चन्दन विश व्यापत नहीं, लपटे रहत भुजंग।।

      बहुत सारे लोगो का मानना है कि सर्प को चंदन की खुश्बू अच्छी लगती है इसलिए सर्प चंदन वृक्ष से लिपटा रहता है। कुछ हद तक यह तथ्य सत्य भी है परन्तु यह मुख्य कारण नही है। जैसा कि दोस्तो हम सभी जानते है कि सर्प के शरीर की बनावट कुछ इस प्रकार है कि उसें ठण्डे एवं नमी वाले स्थानो में रहना पसंद है। इसके विपरित सर्प की शरीर गर्मी के लिए अनुकुलित नही है। इस कारण नमी के कारण सर्प बिल एवं जमीन के अंदर रहते है। और दोस्तो हम सभी जानते है कि चंदन वृक्ष से सर्वाधिक शीतलता मिलती है। इसलिए शीतलता पाने एवं नमी तथा अपने शरीर के तापमान को नियत बनाये रखने के लिए सर्प चंदन के वृक्ष से लिपटे रहते है। ऐसा करने से सर्प के शरीर में ठण्डक बनी रहती है। 

      दोस्तो आपने सर्प को देखते समय यह जरूर गौर किया होगा कि सर्प अपनी जीभ बार बार बाहर निकालते रहता है सर्प ऐसा इसलिए करता है क्योंकि सर्प अपनी जीभ बाहर निकालकर वातावरण का आकलन करता है। अपनी जीभ द्वारा सर्प अपने आसपास की नमी एवं वातावरण का पता लगाता है।

     तो दोस्तो अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तो के साथ भी शेयर करिये और हमारे फेसबूक पेज को लाइक करिये ऐसी ही चटपटी आर्टिकल्स के लिए.... 

         

Share:

No comments:

Post a Comment

Like Us on Facebook

Followers

Follow by Email

Blog Archive

Recent Posts