ऐसी पुस्तक जिसे नाही कोई समझ पाया और नाही कोई पढ़ पाया...

यूं तो दोस्तों इस दुनिया में बहुत सारे सुलझे . अनसुलझे रहस्य मौजूद है परंतु दोस्तों आज हम आपको बताएंगे एक ऐसी रहस्यमयी किताब के बारे में जिसके रहस्य को आज तक कोई नहीं सुलझा सका। इस रहस्यमयी किताब का नाम है वायनिक मनुस्क्रिप्ट। इस किताब को वायनिक पांडुलिपि भी कहा जाता है। इस किताब में लिखी हुई लिपि इतनी रहस्यमयी है कि आज तक कोई भी लिपि विद्या जानने वाला या कोई भी व्यक्ति इस किताब को पढ़ या समझ नहीं पाया। माना जाता है कि इस रहस्यमयी किताब के अंदर प्राचीन इतिहास एवं खगोल शास्त्रए आयुर्वेदए जादूगरी जैसे बहुत सारे रहस्य छुपे हो सकते है। आइए दोस्तों जानते हैं इस रहस्यमयी किताब के बारे में कुछ महत्वपूर्ण एवं रोचक बातें।


      वायनिक मनुस्क्रिप्ट नामक यह रहस्यमयी किताब 600 वर्ष पूर्व 15 वीं सदी में लिखी गई थी। इस किताब के लेखक रोजर बेकॅन को माना जाता है। यह किताब 240 पन्नो की है। इस 240 पन्नो में से अभी तक एक अक्षर को भी नहीं समझा जा सका हैं। इस किताब की पन्ने चमड़े के बने हुए हैं। इसके पन्ने एवं स्याही की कार्बन डेटिंग पद्धति द्वारा अध्ययन करने पर पता चला है कि यह किताब 15वीं सदी में लिखी गई थी। इस किताब को 6 भागों में बांटा गया है। इन भागों में अंकित चित्रों द्वारा इस रहस्यमयी किताब के बारे में कुछ हद तक जानकारी प्राप्त हुई है।

  • पहला भाग : 

     वायनिक मनुस्क्रिप्ट नामक इस किताब के पहले हिस्से में खगोल विज्ञान के बारे में बताया गया है। पहले भाग में सूर्यए चंद्रमा और तारों के चित्र देखने को मिलते हैं।

  • दूसरा भाग :

     दूसरा भाग जीव विज्ञान से संबंधित है। इस भाग में मानव अंगो के विभिन्न चित्र देखने को मिलते हैं।

  • तीसरा भाग :

     तीसरा भाग ब्रह्मांड विज्ञान से संबंधित है क्योंकि इस भाग में बहुत सारे गोल संरचनाएं दिखाई देती है।

  • चौथा भाग :  

      इस किताब का चौथा भाग पेड़ . पौधों से संबंधित है। इस भाग में कुछ ऐसे पौधों के भी चित्र दर्शाए गए हैं जो कि इस पृथ्वी पर मौजूद ही नहीं है।

  • पांचवा भाग :

      पांचवा हिस्सा जड़ी बूटियों एवं आयुर्वेद से संबंधित है जिसमें संभवतः विभिन्न औषधियों के बारे में बताया गया है।

  • छठवां भाग :

     वायनिक मनुस्क्रिप्ट नमक इस रहस्यमयी किताब का छठवां और आखिरी हिस्सा सबसे ज्यादा रहस्यमयी है क्योंकि इस हिस्से में कोई भी चित्र अंकित नहीं है और कुछ विशेष प्रकार की लिपि में कुछ लिखा गया है जिसे आज तक कोई भी समझ नहीं पाया। इसी कारण से इस भाग को समझ पाना बेहद मुश्किल है‌

     ऐसा प्रतीत होता है कि इस रहस्यमयी किताब की लिपि को समझ पाना लगभग मुश्किल ही है क्योंकि बहुत से लिपि विद्या जानने वाले इस किताब को समझने की कोशिश कर चुके हैं परंतु वे सभी असफल ही रहे हैं।

    संभवतः दोस्तों वायनिक मनुस्क्रिप्ट नामक इस रहस्यमयी किताब की लिपि अगर समझ आ गयी तो हमें प्राचीन इतिहास के बारे में एवं विभिन्न प्रकार की दुर्लभ जानकारी प्राप्त हो सकती है। परंतु दोस्तों क्या कभी हम इस रहस्यमयी किताब में लिखी हुई बातों को जान पाएंगे... 

    दोस्तों अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए और हमारे फेसबुक पेज को लाइक कीजिए ऐसे ही चटपटी रहस्यमयी मजेदार आर्टिकल्स के लिए...


Share:

3 comments:

Like Us on Facebook

Followers

Follow by Email

Recent Posts