पाकिस्तानी सेना में मेजर बना था भारत का ये असली 'जासूस'

दोस्तों जब देशभक्ति की बात आती है तो हर व्यक्ति ओज और जोश से भर जाता है। दोस्तों आज 26 जनवरी है, हमारे देश के बहुत वीर हमारे देश  आज़ादी के लिए अपनी जान की क़ुरबांनी दिए थे और आजादी के बाद आज भी हमारे वीर जवान देश की रक्षा के लिए अपनी जान की बाजी लगा देते है। दोस्तों, आज हम आपको बताएंगे एक ऐसे देश भक्त जासूस के बारे में जिसके बारे में आपने शायद ही सुना होगा। दोस्तों हम बात कर रहे हैं रियल हीरो रविंद्र कौशिक के बारे में जिसने अपने देश के लिए सब कुछ त्याग कर अकेले पाकिस्तान चला गया जासूसी करने के लिए। आइए जानते हैं इस रियल हीरो की कुछ सुनी - अनसुनी रोचक रहस्यमयी बातें।

      श्रीगंगानगर में हिंदू पंडित के घर पैदा हुआ रविंद्र कौशिक नाटक (अभिनय) करने का बहुत शौकीन था।
रविंद्र कौशिक को रूप बदलकर बहरूपिया बनने में महारथ हासिल थी। रुप बदलने की इसकी कला अद्भुत थी इसकी इस कला को भेद पाना बेहद ही मुश्किल था।

     रविंद्र को अभिनय करने के लिए लखनऊ बुलाया गया था वहां वह देश प्रेम का अभिनय करते हुए चीन में पकड़े गए भारतीय सैनिकों की दर्द भरी दास्तां का सटीक अभिनय कर रहे थे। रविंद्र का दर्द भरा अभिनय लोगों को बिल्कुल सच लग रहा था। इन्हीं लोगों की भीड़ में RAW का एक अधिकारी भी बैठा था जो कि रविंद्र की अभिनय से बहुत ज्यादा प्रभावित हुआ और रविंद्र को अपने लिए काम करने को कहा और रविंद्र ने इस प्रस्ताव को स्वीकार भी कर लिया। रविंद्र को बहरूपिया बनकर मुसलमान की एक्टिंग करने को कहा गया था।

     रविंद्र को एक गुप्त स्थान पर ले जाया गया और वहां उसकी 2 साल तक ट्रेनिंग चली इस दौरान रविंद्र में यह भी देखा गया कि उनमें देश प्रेम और धर्म के प्रति कितनी आस्था है। यह इसलिए आवश्यक था ताकि अगर कोई एजेंट मुस्लिम देश में पकड़ा भी गया तो वह किस हद तक मुंह खोल सकता है लेकिन रविंद्र RAW अधिकारियों की सभी परीक्षा में पास हुआ।

     आखिर वह दिन आ गया जब रविंद्र को जासूसी के लिए पाकिस्तान जाना था। RAW के अधिकारियों ने रविंद्र को जासूस बनकर पाकिस्तान जाने को कहा और यह भी कहा गया कि अगर तुम वहां किसी कारणवश मर भी गए तो यह तुम्हारी जिम्मेदारी होगी और अगर पकड़े गए तो हम तुम्हें नहीं पहचानेंगे। रविंद्र ने अधिकारियों की बात पर हामी भरते हुए कहा मुझे खुद पर पूर्ण विश्वास है कोई भी मेरे रूप बदलने की कला को नहीं पहचान पाएगा। यह सब सुनकर RAW के सभी अधिकारी खुश हो गए।

     रविंद्र को मुसलमान के रूप में ढालने के लिए उसका खतना कराया गया, दिन में पांच बार नमाज पढ़ने की ट्रेनिंग दी गई, उर्दू भाषा सिखायी गयी और कुछ दिन मुसलमानों की संगति में रखा गया‌

      रविंद्र ने अपने घर में यह बताते हुए विदा ले लिया कि उसकी दुबई में नौकरी लग गई है और अब वह वही रहेगा और घर में पैसे भेज दिया करेगा।

      भारतीय सीमा पार कराकर रविंद्र को पाकिस्तान भेज दिया गया जहां सबसे पहले वह अपना शिनाख्ती कार्ड बनाया और कराची के एक महाविद्यालय में एलएलबी की उपाधि प्राप्त कर ली। रविंद्र कौशिक पाकिस्तान में नबी अहमद शाकिर के नाम से जाना गया। रविंद्र कौशिक उर्फ़ नबी अहमद शाकिर पाकिस्तानी सेना में भर्ती हो गया। कहा जाता है कि रविंद्र कौशिक पाकिस्तानी सेना में मेजर के पद तक पहुंच गए थे। किसी को कोई शक ना हो इसलिए रविंद्र ने अपने सीनियर अधिकारी की बेटी फातिमा से शादी कर ली। और पाकिस्तान में ही एक मुसलमानी लड़की के साथ अपना घर बसा लिया।

      रविंद्र कौशिक उर्फ़ नबी अहमद शाकिर पाकिस्तान की बहुत सारी खुफिया जानकारी RAW को भेजता गया और सन् 1971 के युद्ध जीतने में भी भारत के लिए अहम योगदान दिया। सब कुछ सही तरीके से चल रहा था फिर कांग्रेस की सरकार ने यह सोचा कि रविंद्र की सहायता के लिए एक और जासूस पाकिस्तान भेजना चाहिए। रविंद्र ने इसके लिए साफ साफ मना कर दिया। परंतु सरकार के दबाव के चलते रविंद्र ने मजबूरी में एक और सहयोगी के लिए हामी भर दी। फिर एक और RAW एजेंट को रविंद्र के सहयोग के लिए पाकिस्तान भेजा गया जो कि कांग्रेस सरकार की सबसे बड़ी गलती साबित हुई। यह नया जासूस भारत की सीमा पार कर पाकिस्तान के एक होटल में चाय पीने रुक गया। वहीं पर कुछ पाकिस्तानी सैनिक भी बैठे थे। उन सैनिकों को इस  जासूस पर शक हो गया और वह जासूस पकड़ा गया। वह जासूस डर कर पाकिस्तानी सैनिको को सब कुछ सच - सच बता दिया। उसने कहा "मैं भारत से आया हूं अपने दोस्त से मिलने"। इस तरह नए जासूस ने RAW एजेंट के बारे में सभी पोल खोल दी और रविंद्र कौशिक पकड़ा गया। इस नए जासूस की मूर्खता के कारण रविंद्र पकड़ा गया और रविंद्र को जेल में डाल दिया गया। रविंद्र कौशिक पर अनेक प्रकार के जुर्म किए गए। रविंद्र को फांसी की सजा सुनाई गई परंतु वहां की मानवाधिकार संस्थाओं ने इस फांसी को उम्रकैद में तब्दील करवा दी।

     सजा के पहले रविंद्र को 12 दिन तक गुप्त बंद कमरे में बिना भोजन दिए रखा गया था। उसे सिर्फ पानी ही दिया जाता था वह भी सिर्फ उतना ही पानी जिससे कि वह जिंदा रह सके। 12 दिन तक इस हालत में रहने से रविंद्र को हृदय की बीमारी हो गई थी जिसका पाकिस्तान की जेल ने इलाज भी नहीं करवाया। इस बीच रविंद्र ने अपने घर में खत लिखकर सब कुछ सच बता दिया। खत में रविंद्र ने इच्छा जाहिर की थी कि वह भारत की भूमि पर मरना चाहता है। घरवालों ने नेताओं से मिलकर रविंद्र को छुड़ाने की कोशिश की परंतु नेताओं ने साफ साफ मना कर दिया और कहा कि हम कोई मदद नहीं कर सकते हमने पहले ही एग्रीमेंट पर साइन किया है कि पकड़े जाने पर हम कोई सहायता नहीं करेंगे।

     अंत में सन् 2001 में रविंद्र कौशिक ने पाकिस्तान की जेल में अपना प्राण त्याग दिया। भारत सरकार ने रविंद्र का शव लेने से भी इंकार कर दिया और रविंद्र की शव को पाकिस्तान ने कचरे के ढेर के साथ जला दिया।

     रविंद्र कौशिक को "ब्लैक टाइगर" की उपाधि से नवाजा गया था। दोस्तों यह थी रियल हीरो रविंद्र कौशिक की रोचक बातें। दोस्तों अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए और हमारे फेसबुक पेज को लाइक कीजिए ऐसे ही चटपटी रहस्यमयी और मजेदार आर्टिकल्स के लिए......


Share:

No comments:

Post a Comment

Like Us on Facebook

Followers

Follow by Email

Recent Posts